… क्या रवींद्र सिंह भाटी ने किया गहलोत की कार से प्रचार? वायरल पोस्ट से मचा हंगामा; सच जानो.

0
18
ravindra singh bhati


Rajasthan Chunav 2024: सोशल मीडिया पर यूजर्स ने कांग्रेस और निर्दलीय उम्मीदवारों के बीच मिलीभगत का आरोप लगाया है।


Rajasthan Chunav 2024: राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर गंभीर आरोप लगे हैं। एक वायरल सोशल मीडिया पोस्ट में दावा किया गया कि बाड़मेर से निर्दलीय उम्मीदवार रवींद्र सिंह भाटी, गहलोत के चुनाव कार्यक्रम के लिए बुक की गई कार का इस्तेमाल कर रहे थे। वह इन गाड़ियों में चुनाव प्रचार करते भी दिखे थे.

लोकेश शर्मा ने साधा निशाना.
इस संबंध में गहलोत के पूर्व ओएसडी लोकेश शर्मा ने पोस्ट शेयर कर लिखा कि अगर सोशल मीडिया पर चल रही खबर सही है तो राजस्थान लोकसभा चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष को तुरंत निष्कासित किया जाना चाहिए.

वहीं, बाड़मेर लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी प्रत्याशी कैलाश चौधरी ने एक पोस्ट में लिखा कि जिस निर्दलीय उम्मीदवार को कांग्रेस पार्टी के कुछ नेता बीजेपी की ‘बी टीम’ बता रहे हैं, वह उनकी पार्टी की ‘ए टीम’ है. , कांग्रेस नेता अशोक गहलोत. ‘बाहर आओ।

बेनीवाल ने दी सफाई
कांग्रेस प्रत्याशी बाड़मेर उम्मेदाराम बेनीवाल ने कहा कि सोशल मीडिया पर जो कुछ भी चल रहा है. यह बिल्कुल अफवाह है. पूर्व सीएम अशोक गहलोत सिवाना आए थे. मेरे पक्ष में रैली हुई. दरअसल, पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत को 21 अप्रैल को अपने बेटे वैभव के लिए प्रचार करने जालोर जाना था. हालांकि पीएम मोदी की सभा के चलते उन्हें इजाजत नहीं मिली. इसके बाद गहलोत ने उतरलाई एयरपोर्ट पर उतरने की इजाजत मांगी.

उन्हें एयरपोर्ट से ले जाने के लिए जोधपुर की एक निजी ट्रैवल्स कंपनी से दो गाड़ियां बुक की गईं। इस संबंध में बाडमेर उप जिला निर्वाचन अधिकारी की ओर से लिखित में पूर्व सीएम के लिए बाडमेर में दो गाड़ियों को अनुमति दी गई थी, जिनके नंबर आरजे04 यूए 7057 और आरजे14 यूके 2992 थे. इसी बीच 20 अप्रैल 20 की रात को गेहलोत को सांचौर से चितलवाना संचालन की अनुमति मिल गयी। इसलिए सीएम ने उतरलाई एयरपोर्ट जाना रद्द कर दिया और सीधे चितलवाना चले गए. सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर में रवींद्र सिंह भाटी उसी कार में चुनाव प्रचार कर रहे हैं जो गहलोत के लिए बुक की गई थी. दूसरी गाड़ी में भाटी को सहारा देने वाला दुपट्टा बंधा हुआ था. इस बीच, पूर्व सीएम कार्यालय के अधिकारियों का कहना है कि किस ट्रैवल कंपनी ने गाड़ियां भेजीं, इसके बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध कराने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here