राजस्थान में तूफान फिर बना काल घर की छत गिरने से दादी व दो पोतों की मौत

0
72

हनुमानगढ़। राजस्थान के हनुमानगढ़ शहर की टाउन की पारीक कॉलोनी में घर की छत गिरने से एक ही परिवार के 3 लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में एक महिला दो बच्चे शामिल हैं। हादसे में एक महिला घायल हो गई जिसे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। घटना बुधवार तड़के करीब तीन बजे की है। जानकारी के अनुसार, तेज अंधड़ की वजह से घर की घत गिर गई। छत गिरने से उसके नीचे दबने से जानी देवी, उसके पोते प्रदीप और पुनीत की मौत मौत हो गई। हादसे में दोनों बच्चों की मां चोटिल हो गई। हादसा के समय पूरा परिवार सो रहा था। शोरगुल सुनकर लोग बचाव के लिए आए। सूचना के बाद घटना स्थल पर पहुंची पुलिस ने मृतकों के शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिए। तेज अंधड़ से जगह-जगह सड़कों पर टूटकर गिरे पेड़
श्रीगंगानगर क्षेत्र में मंगलवार रात्रि को करीब सवा ग्यारह बजे आए तेज अंधड़ के कारण कई जगह पेड़ टूटकर गिरे तो कहीं लोगों के घरों व दुकानों के आगे लगे टेन के शेड उड़ गए। इसके अलावा गावं के कुछ घरो में बनी पक्की दीवारे भी गिर गई। इस अधड़ की रफ्तार इतनी तेज थी की किसानों द्वारा बनाई गई अपने खेतों के चारों ओर बाड़ उडकर अन्य किसानों के खेतों व सड़कों पर गई । आंधी से राजियासर से श्रीबिजयनगर जाने वाले सड़क मार्ग पर दर्जनभर पेड़ टूटकर जगह-जगह सड़क के बीचों बीच गिर गए जिससे घण्टों जाम लगा रहा और वाहनों की लम्बी कतार लग गई। टूटकर गिरे पेड़ों को सुबह साढे छह बजे वन विभाग के कर्मचारी, ग्रामीण और वाहन चालकों काटकर हटाना शुरू किया। अभी तक यह सड़क मार्ग सुचारू नही हुआ है। यह अंधकार करीब ढाई घण्टे लगातार चला। इस तेज अंधकार के कारण क्षेत्र के किसानों द्वारा बोई हुई नरमें व कपास की फसलों काफी नुकसान हुआ है । इससे कपास व नरमें के पौधो से पते टूटकर उड़ गए तथा फसल झुलस गई । इससे किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here